Monday, January 9, 2012

स्मृतियों में पहाड़

(कांगड़ा-धर्मशाला में बर्फ़बारी हुई है और मैं यहां मुंबई में तस्वीरें देख-देख चहक रही हूं. फिलहाल कोई दूसरा विकल्प है भी नहीं. बचपन में बड़े-बड़े ओले पड़ते हुए कई बार देखे वहां, लेकिन बर्फ़ 35 साल बाद गिरी है. काश, इस नज़ारे का लुत्फ़ ले पाती! मिसिंग दैट व्हाइट चार्म!!)
 
धौलाधार की पहाड़ियों पर 
बर्फ़ झरी है बरसों बाद 
और कई सौ मील दूर 
स्मृतियों में 
पहाड़ जीवंत हो उठे हैं 

कहीं भी जाओ 
पीछा नहीं छोड़ते पहाड़ 
संग चलते हैं 
जीवन भर  

वही हिम
वही उजास
वही उल्लास

स्मृतियों में उदात्त पहाड़
स्मृतियों में धवल चांदनी
स्मृतियों में निरभ्र शांति 

मैं संतृप्त रहने की चेष्टा में हूं 
स्मृतियों का शोर जारी है। 

('जनसंदेश टाइम्स' में 1 अप्रैल 2012 को प्रकाशित)

31 comments:

  1. बहुत सुन्दर और भावमयी प्रस्तुति..

    ReplyDelete
    Replies
    1. कैलाश जी, धन्यवाद.

      Delete
  2. कहीं भी जाओ
    पीछा नहीं छोड़ते पहाड़
    संग चलते हैं जीवन भर
    ................साधु-साधु

    ReplyDelete
  3. जब तक स्मृतियाँ हैं संतृ्प्तता की कोई गुंजाइश नहीं लगती मुझे तो।

    ReplyDelete
    Replies
    1. देवेन्द्र जी, कभी-कभी स्मृतियां काफी होती हैं संतृप्त करने के लिए...

      Delete
  4. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  5. वाह ...बहुत खूब लिखा है आपने

    ReplyDelete
  6. अद्भुत! इस सफ़ेद चादर को ओढ़ मैं भी खो जाऊं स्मृतियों के आकाश में...
    माधवी, जब भी आपकी कविताएं पढ़ती हूं, मन शांत हो जाता है, जीवन उल्लास से भर जाता है...
    The positivity of the white charm has indeed charmed me as well because of your magical words!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank you so much for appreciating! It encourages me more!!

      Delete
  7. बेहतरीन भावो का सुन्दर संगम्।

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया, वंदना जी.

      Delete
  8. it,s very nice ....words as well as pic. which gives the feeling of nature's wonder ...!

    ReplyDelete
  9. माधवी जी, आप बहुत अच्‍छा लिखती हैं ..इस रचना के भाव भी बहुत ही अच्‍छे हैं ..आप तक पहुंचने का श्रेय आदरणीय रश्मि जी को जाता है ब्‍लॉग बुलेटिन पर आपका परिचय पढ़ा अच्‍छा लगा बधाई के साथ शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत धन्यवाद आपका और रश्मि जी का. अनन्त शुभकामनाएं स्वीकारें.

      Delete
  10. ऐसा अच्छा और भी लिखो.... अनवरत चलती रहे ये साधना...

    ReplyDelete
  11. किस खूबसूरती से लिखा है आपने। मुँह से वाह निकल गया पढते ही।

    ReplyDelete
  12. बहुत शुक्रिया आपका.

    ReplyDelete
  13. हिम पहाड़ी सुंदरता का वर्णन अद्वितीय लिखा है आपने , हमारे राजस्थान की सुनहरी मिट्टी सी सौंधी महक बिखेर दी । बहुत खूब

    ReplyDelete
  14. बहुत खूब! कहने को पर्वत स्थावर हैं लेकिन ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. ...लेकिन चलते हैं साथ. बहुत शुक्रिया!

      Delete
  15. दिल करता कि अभी इस जगह कि तरफ की और रवाना हो जाऊं और अच्छी अच्छी कविताएँ लिखता रहूँ, बस लिखता रहूँ |

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...