Saturday, January 21, 2012

पर घर न छूटे

(यात्रा से जुड़ी अदम्य इच्छाओं पर एक कविता, 
साथ में साल्वाडोर डाली का चित्र) 
अनगिन लालसाएं 
अनगिन यात्राओं की 

न कोई पर्वत छूटे 
न जंगल 
न दरिया 
न पठार 

बियाबान छूटे 
सागर 
न रेत 
न तलछट 

न दर्रा छूटे कोई
न कंदरा 
न घाटी 
न आकाश 

न उत्तर छूटे 
न दक्षिण 
न पूरब 
न पश्चिम 

न रंगीनी छूटे 
न वीरानगी 
न आनगी छूटे 
न रवानगी 

अनगिन लालसाएं 
अनगिन यात्राओं की 
कि धरती का 
कोई छोर छूटे 

पर घर न छूटे 
यह संभव कहां! 

('जनसंदेश टाइम्स' में 1 अप्रैल 2012 को प्रकाशित)

29 comments:

  1. सुन्दर सृजन , सुन्दर भावाभिव्यक्ति.
    please visit blog.

    ReplyDelete
  2. बढ़िया प्रस्तुति...
    आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 23-01-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  3. कुछ छूटता कहाँ ?
    छोड़ना पड़ता है
    अच्छी रचना

    ReplyDelete
  4. घर ही तो छूट जाता है .... फिर सबकुछ इर्द गिर्द होकर भी दूर होता जाता है ...

    ReplyDelete
  5. वाह …………कितनी गहरी बात कह दी।

    ReplyDelete
  6. jeevan bhi yaatra hai..kai patthaar..kai pahaad..kai saagar paar karne padte hain..jeevan ki ghaati mein gehre utar ke dekho to baaki ki yaatraayein maamooli lagne lagti hain..

    ReplyDelete
  7. घर और उसकी यादें तो हर सफर में साथ रहती हैं ... छूटती नहीं ...

    ReplyDelete
  8. जो घर फूंके आपणो चले हमारे साथ।

    ReplyDelete
  9. भावपूर्ण रचना.... यही सच है...

    ReplyDelete
  10. बहुत खूब.......
    कुछ पाया तो क्या???कुछ खोया भी तो!!!

    ReplyDelete
  11. अनगिन लालसाएं
    अनगिन यात्राओं की
    कि धरती का
    कोई छोर न छूटे
    चाहे जो भी छूटे,पर घर न छूटे....

    ReplyDelete
  12. माधवी जी,...वाह बहुत खूब,सार्थक अभिव्यक्ति सुंदर रचना,बेहतरीन पोस्ट....
    new post...वाह रे मंहगाई...

    ReplyDelete
  13. बेहतरीन रचना।

    ReplyDelete
  14. `हजारों ख्वाहिशें ऐसी...`

    ReplyDelete
  15. इतना सब कुछ न छोड़ने की चाह में घर ही छूट जाता है ..गहन अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  16. रश्मि प्रभा जी की बात से पूरी तरह सहमत हूँ ...समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  17. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट्स पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    ReplyDelete
  18. कितना छूट चुका
    कितना छूट रहा है
    सब कुछ छूट जायेगा
    एक दिन शायद
    या फिर छूट जाऊंगा
    मैं?

    ReplyDelete
  19. वाह बहुत खूब


    अनगिन लालसाएं
    अनगिन यात्राओं की
    कि धरती का
    कोई छोर न छूटे
    चाहे जो भी छूटे,पर घर न छूटे...............

    पर ऐसा होना संभव कहाँ ...दोनों में से एक का ही साथ रहेगा ..घर या लालसाएं.......चुनना हमको ही हैं ...आभार

    ReplyDelete
  20. ये कविता पढ़ कर ग़ालिब का शेर -" बहुत निकली मेरे अरमान फिर भी कम निकले..." याद आ गया....पढ़ कर अच्छा लगा-
    राजू पटेल.

    ReplyDelete
  21. सुन्दर..बहुत सुन्दर कवितायें!! :)

    ReplyDelete
  22. सॉरी, कवितायें नहीं..कविता :)

    ReplyDelete
  23. माधवी जी , हम जिस दुनियॉ में जी रहे हैं उसका नाम ही मृत्युलोक है , यहॉ से तो सब कुछ छोड कर जाना पडेगा पर चूँकि हम घर से बँधी हैं , हमें घर से विशेष लगाव होता है । सुन्दर कविता , बधाई ।

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...