Saturday, January 14, 2012

मुझे ख़ुद से हैं बहुत-सी उम्मीदें

(मुंबई के महबूब स्टूडियो में पिछले दिनों दीपिका पादुकोण से मुलाक़ात हुई। दीपिका फ़िल्म देसी ब्वॉयज़ की प्रमोशन में व्यस्त थीं। कुछ देर इधर-उधर टहलने के बाद मैं स्टूडियो वापस आई तो वे सामने खड़ी थीं। गुफ़्तगू शुरू हुई, और दीपिका ने एक-एक कर दिल की सारी परतें खोल डालीं। होंठों पर मुस्कान और चेहरे पर सादगी के साथ दीपिका बताती हैं कि 20 साल की उम्र में वे मुंबई आ गई थीं। इंडस्ट्री में उनका कोई गॉडफादर नहीं था, इसके बावजूद पहली फ़िल्म में उन्हें शाहरुख़ ख़ान जैसे सितारे के साथ काम करने का मौक़ा मिला। कामयाबी का पहला पाठ लिखा जा चुका था, और बाद की सफ़लता सबके सामने है।)

आपका जन्म डेनमार्क की राजधानी कोपेनहेगन में हुआ, हिन्दुस्तान कब आईं? 
11 महीने की थी जब हम डेनमार्क से बंगलुरु शिफ्ट हुए। वहां सोफिया हाई स्कूल और माउंट कार्मल कॉलेज से पढ़ाई की। बचपन में खूब बैडमिंटन खेलती थी, फिर नेशनल लेवल पर भी खेलना शुरू किया। 15 साल की थी जब बोर्ड की परीक्षा के लिए ब्रेक लिया, तभी सोच लिया था कि मुझे बैडमिंटन में करियर नहीं बनाना है। टेलीविज़न पर मिस इंडिया और मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता बड़े शौक से देखती थी। मेरा रुझान मॉडलिंग और एक्टिंग में था इसलिए मुंबई आ गई।
मॉडलिंग में पहला ब्रेक कैसे मिला?
मॉडलिंग के ऑफर बचपन से ही आने लगे थे। स्कूल-कॉलेज में जब भी फैशन शो होता तो मुझे उसमें हिस्सा लेने के लिए कहा जाता। उसी दौरान कुछ विज्ञापन फ़िल्में कीं। पहली एड फ़िल्म लिरिल साबुन के लिए थी। उसके बाद क्लोज़-अप, डाबर और लिम्का के लिए विज्ञापन किए। हिमेश रेशमिया के म्यूज़िक वीडियो में काम किया। अब तक कई अंतरराष्ट्रीय ब्रांड के लिए विज्ञापन कर चुकी हूं।
ग्लैमर की दुनिया में हर कोई सफल हो, यह ज़रूरी नहीं। जब मुंबई आईं तो ऐसा कोई संशय मन में था?
मुझे अच्छी तरह मालूम था कि मुझे क्या करना है, बहुत अच्छा कर पाऊंगी, यह नहीं पता था। मैं चुपचाप अपना काम करती रही, और पीछे मुड़कर कभी नहीं देखा। हिमेश रेशमिया के म्यूज़िक वीडियो में देखकर फ़राह ख़ान ने मुझे अपनी फ़िल्म में लेने का फ़ैसला किया।
आपके पिता प्रकाश पादुकोण बैडमिंटन के बड़े खिलाड़ी रहे हैं। मॉडलिंग और एक्टिंग का पेशा चुनने पर उनका क्या रुख़ था?
उन्होंने हमेशा मुझ पर भरोसा किया और मेरा उत्साह बढ़ाया। वे कहते थे कि तुम्हें वही करना चाहिए जिसमें तुम्हारी दिलचस्पी है। बहुत-से माता-पिता ऐसे हैं, जो चाहते हैं कि उनके बच्चे वही करें जो उन्हें कहा जाए। या फिर उनकी इच्छा होती है कि उनके अधूरे सपनों को बच्चे पूरा करें। लेकिन पापा ने अपनी पसंद हम पर कभी नहीं थोपी, उन्होंने खुले दिल से बच्चों की पसंद को समझा और स्वीकारा।
परिवार में और कौन-कौन है?
मां, जो पर्यटन व्यवसाय से जुड़ी रही हैं। वे कोपेनगेहन में एयर इंडिया के ग्राउंड स्टाफ में थीं। हिन्दुस्तान लौटने के बाद मां घर से ट्रैवल एजेंसी चलाने लगीं। पापा की बैडमिंटन अकादमी है, जिसकी शाखाएं कई शहरों में हैं। छोटी बहन अनीषा, गोल्फ खेलती है।
आप फ़िल्मी पृष्ठभूमि से नहीं हैं, इस वजह से करियर में क्या मुश्किलें आईं?
मेरे सामने अलग चुनौतियां थीं। जब बैडमिंटन खेलती थी तो लोग मेरी तुलना पापा से किया करते थे। मॉडलिंग शुरू की तो वे रास्ता भी आसान नहीं था। इंडस्ट्री में मेरा कोई गॉडफादर नहीं था। लोग समझते हैं कि फ़िल्म इंडस्ट्री आसान जगह है। लेकिन यह ज़रूरी नहीं है कि आप लंबे और ख़ूबसूरत हैं तो काम मिल ही जाएगा। यहां पूरे समर्पण, मेहनत और ज़िम्मेदारी से काम करना पड़ता है। दो साल मॉडलिंग के बाद मेरे पास फ़िल्मों के ऑफर आने लगे। चाहती तो बहुत पहले काम शुरू कर सकती थी लेकिन मैंने ऐसा नहीं किया। मैं अच्छे ऑफर का इंतज़ार करती रही। इस तरह पहली ही फ़िल्म में मुझे शाहरुख़ ख़ान के साथ काम करने का मौक़ा मिला।
…‘ओम शांति ओम से पहले आप कन्नड़ फ़िल्म ऐश्वर्या में काम कर चुकी थीं। पहली हिन्दी फ़िल्म पाकर कैसा लगा?
फ़राह ख़ान ने जब मुझसे कहा कि तुम मेरी फ़िल्म ओम शांति ओम में शाहरुख़ ख़ान के साथ काम करोगी तो मुझे विश्वास नहीं हुआ। फिर वे मुझे शाहरुख़ से मिलाने उनके घर लेकर गईं। मुझे याद है, उस वक़्त शाहरुख़ के घर का इंटीरियर सफ़ेद रंग का था। सफ़ेद फ़र्श, सफ़ेद पर्दे और सफ़ेद सोफ़ा... सब-कुछ सफ़ेद था और संयोग से मैंने भी सफ़ेद रंग की सलवार-कमीज़ पहनी हुई थी। मैं  सोफ़े के कोने पर सहमी-सी बैठी थी कि शाहरुख़ आए। उन्होंने मेरी पीठ थपथपाकर रिलैक्स होने को कहा। लेकिन मैं इतनी ज़्यादा नर्वस थी कि उनसे आंखें नहीं मिला पा रही थी। फिर शाहरुख़ और फ़राह मेरे रोल और लुक को लेकर डिस्कस करने लगे। मुझे तब भी यक़ीन नहीं हो रहा था कि मैं इतनी बड़ी फ़िल्म में काम करने जा रही हूं। शूटिंग के दौरान भी सबने मेरी बहुत मदद की। शाहरुख़ की यही कोशिश थी कि मैं सहज रहूं। वे मुझे हमेशा कहते थे कि ओम शांति ओम तुम्हारी फ़िल्म है। पहली फ़िल्म में अगर मैं अच्छा काम कर पाई हूं तो उसका सारा श्रेय शाहरुख़ को जाता है।
किसे आदर्श मानती हैं?
पापा को। उन्होंने कितना नाम कमाया है, अपने देश के लिए ही नहीं, अंतरार्राष्ट्रीय स्तर पर भी! इसके बावजूद वे साधारण इंसान हैं। विनम्रता और सादगी का जीता-जागता उदाहरण हैं। लोग उनके कायल हैं। मैं पापा की तरह सफल होना चाहती हूं। उनकी तरह सरल और सहज रहना चाहती हूं। 
ओम शांति ओम फ़िल्म ने सुर्खियां बटोरीं और बॉलीवुड में आपका स्वागत शानदार ढंग से हुआ। परिवार की प्रतिक्रिया क्या रही?
पहले किसी को विश्वास नहीं हुआ। मेरा परिवार खेलों से जुड़ा रहा है। हम इंडस्ट्री में किसी को नहीं जानते थे, फिर भी मुझे इतना बड़ा ब्रेक मिला। ज़ाहिर है सब बहुत ख़ुश हुए। पहली ही फ़िल्म में मुझे सराहा गया, यह बड़ी बात है। किसी भी काम में परिवार का सहयोग मायने रखता है और मैं ख़ुश हूं कि मुझे मेरे परिवार का सहारा मिला।
किसे अपना सबसे बड़ा आलोचक मानती हैं?
ख़ुद को। उसके बाद मेरा परिवार मेरा सबसे बड़ा और सच्चा आलोचक है।
सफलता के लिए क्या ज़रूरी है?
अपने काम को मन से करना ज़रूरी है। अगर आपके अंदर अपने काम को लेकर पैशन नहीं है तो आप अच्छे अदाकार नहीं बन सकते। कुछ भी करें लेकिन उसमें जोश और जुनून दिखना चाहिए। किसी किरदार को निभाने के लिए उसमें डूब जाना ज़रूरी है।
किस काम में सबसे ज़्यादा ख़ुशी मिलती है?
अपने काम में। इसके अलावा, तब मेरी ख़ुशी का ठिकाना नहीं होता, जब मैं दूसरे लोगों को ख़ुश कर पाती हूं। और जब भी अपने परिवार से मिलती हूं। वे ख़ुश होते हैं तो मुझे भी ख़ुशी मिलती है।
बचपन की कोई याद?
अब चूंकि अपने परिवार के साथ नहीं रहती, सब बंगलुरु में हैं और मैं यहां, मुंबई में। परिवार के साथ जितना भी वक़्त बिताया है, या जब भी हमने साथ बैठकर खाना खाया है, अक़सर वही याद आता है।
कोई अधूरी ख़्वाहिश?
बहुत सारी हैं। असल में, अभी यह सवाल पूछना ठीक नहीं है। अगर आप मेरे करियर के अंत में पूछेंगी तो मैं इसका सही जवाब दे पाऊंगी।
सबसे बड़ा सपना क्या है?
अच्छी फ़िल्में करूं, और लोगों का मनोरंजन करती रहूं। अभी बहुत कुछ हासिल करना बाकी है, इसके लिए दिल से कोशिश कर रही हूं।
फ़िल्मों के चुनाव में आपके पिता कोई मशविरा देते हैं?
बिल्कुल। मैं उनसे रोज़ाना फोन पर बात करती हूं। अपने हर फ़ैसले के बारे में उनको बताती हूं, उनकी राय लेती हूं। मेरे माता-पिता दूर रहकर भी क़रीब हैं। वे मेरा और मेरे करियर का पूरा ख़याल रखने की कोशिश करते हैं। फ़िल्म लाइन के बाहर होने का कारण पापा मुझे बेहतर सलाह दे पाते हैं। उन्हें पता है कि मेरे लिए क्या अच्छा है और क्या बुरा। हालांकि फ़िल्म इंडस्ट्री में मुझे काफी वक़्त हो गया है इसलिए अब मैं सही फ़ैसले ले पाने में सक्षम हूं। मेरे पिता मेरी आय का हिसाब रखते हैं।
किस्मत पर कितना यक़ीन है?
कहीं-न-कहीं हम सब किस्मत पर विश्वास करते हैं। लेकिन मेहनत न हो तो किस्मत जैसी कोई चीज़ काम नहीं करती। कठिन मेहनत करके ही भाग्य पर भरोसा कर सकते हैं। बिना कुछ किए, घर बैठे-बैठे किस्मत पर यक़ीन करना फिज़ूल है।
ख़ुद में क्या अच्छा लगता है?
पता नहीं। हां, यह ज़रूर है कि मैं काफी व्यवस्थित हूं। मुझे हर काम योजनाबद्ध तरीके से करना पसंद है।
...और ख़ुद में क्या बदलाव लाना चाहती हैं?
मैं बहुत भावुक और संवेदनशील हूं। हालांकि बहुत-से लोग कहते हैं कि यह अच्छी बात है पर शायद मुझे थोड़ा और मज़बूत होने की ज़रूरत है।
अपने काम से संतुष्ट हैं?
मैं अपनी शर्तों पर जीने वाली लड़की हूं। ख़ुद से बहुत ज़्यादा उम्मीदें हैं मुझे। मैंने अपने लिए कुछ लक्ष्य तय कर रखे हैं जो हासिल करने हैं। मैं बहुत महत्वाकांक्षी हूं और ऐसा कम होता है जब अपने काम से मैं संतुष्ट होती हूं।
आपकी नज़र में आधुनिक स्त्री की परिभाषा क्या है?
जोखिम लेने वाली, आत्मविश्वास से भरी आत्मनिर्भर महिला। जो ख़ुद को अभिव्यक्त कर सके, अपनी बात रख सके। ख़ुशी की बात यह है कि अब महिलाएं ऐसा कर पाने में सक्षम सिद्ध हो रही हैं और हर मुश्किल को पार कर आगे आ रही हैं।
ख़ाली वक़्त में क्या करती हैं?
बंगलुरु चली जाती हूं। वहां मुझे माता-पिता और बहन के साथ वक़्त गुज़ारना अच्छा लगता है। संगीत सुनना पसंद है। खाना बनाना भी बहुत अच्छा लगता है।
...किस तरह का खाना बनाती हैं?
हर तरह का खाना बना लेती हूं लेकिन सबसे ज़्यादा पसंद है... बेकिंग। मैं कुकीज़, चॉकलेट और केक बहुत अच्छे बनाती हूं।
खाने में क्या पसंद है?
दक्षिण भारत का खाना बहुत पसंद है। दरअसल मुझे खाने का बहुत शौक़ है इसलिए हर तरह का खाना अच्छा लगता है।
फिट रहने के लिए क्या करती हैं?
नियमित रूप से योगा करती हूं। मेरे लिए फिटनेस का मतलब सिर्फ़ पतला दिखना नहीं है। अंदर से भी स्वस्थ रहना ज़रूरी है इसलिए अपनी डाइट का ख़ास ख़याल रखती हूं। सुबह पौष्टिक नाश्ता करती हूं ताकि दिन भर ऊर्जा बनी रहे। फल ख़ूब खाती हूं, भारी और गरिष्ठ भोजन नहीं करती। कोशिश रहती है कि रात को चावल या मांसाहार न लूं।
अपना जन्मदिन किस तरह मनाती हैं?
दिन की शुरुआत मंदिर जाकर करती हूं। पार्टियां बहुत ज़्यादा पसंद नहीं हैं। शूटिंग न हो तो परिवार के साथ दिन बिताना पसंद करती हूं।
कौन-सी जगह है, जहां बार-बार जाना चाहती हैं?
बंगलुरु, अपने घर। इसके अलावा उत्तर भारत में घूमना चाहती हूं। वहां ट्रैकिंग भी करना चाहती हूं। उत्तर भारत में कई जगह जाने की इच्छा है। वहां के ढाबों पर खाने का बहुत मन है। ऐसा नहीं है कि मैंने ढाबे पर कभी नहीं खाया, लेकिन सुना है कि उत्तर भारत के ढाबों की बात ही कुछ अलग है।
ज़िंदगी का फ़लसफ़ा क्या है?
ख़ुश रहना सबसे ज़्यादा ज़रूरी है। आप दुनिया के सबसे दौलतमंद इंसान हैं लेकिन बुनियादी तौर पर ख़ुश नहीं हैं तो सब बेमानी है।
आने वाले 5 साल में आप ख़ुद को कहां देखती हैं?
इसी इंडस्ट्री में, अच्छी फ़िल्मों में काम करते हुए। बहुत सारे अभिनेता और निर्देशक हैं जिनके साथ फ़िल्में करना चाहती हूं। मैं ख़ुद को एक बेहद सफल इंसान के रूप में देखना चाहूंगी लेकिन दिली ख़्वाहिश यही है कि लोग मुझे हमेशा एक अच्छे इंसान के रूप में याद रखें।
शूटिंग से जुड़ा कोई दिलचस्प वाकया साझा करना चाहेंगी?
हम लंदन में देसी बॉयज की शूटिंग कर रहे थे। लंदन के जिस हिस्से में शूटिंग चल रही थी, वहां हिन्दुस्तानी काफी तादाद में हैं। एक दिन अनुपम खेर के साथ मेरा शूट था। एक महिला हमारे पास आई और बोली कि आप यहां कई दिन से शूटिंग कर रहे हो, बुरा न मानो तो क्या मैं आपके लिए घर का खाना ला सकती हूं? और अगले दिन वे हमारे लिए अपने हाथ से बना खाना लेकर आईं। शूटिंग में अक़सर हमें बाहर का ही खाना पड़ता है लेकिन उस दिन सबको बहुत अच्छा लगा। यह घटना मैं कभी नहीं भूल सकती।
फ़िल्म बचना हसीनो के गाने ख़ुदा जाने की शूटिंग में भी बहुत मज़ा आया। इस गाने की शूटिंग इटली में हुई थी। गाने में एक शॉट है जब मैं घूमती हूं और बहुत सारे कबूतर उड़ते हैं। मुझे कबूतरों से डर लगता है लेकिन उनके लिए मेरी बांहों पर दाने रखे जाते थे और हर शॉट से पहले क़रीब 25-30 कबूतर मुझ पर आ बैठते। इस दृश्य को फ़िल्माने में काफी मुश्किल हुई। कुछ खरोंचें भी आईं लेकिन वे एक अच्छा अनुभव रहा। इस गाने को 10 दिन तक इटली की अलग-अलग जगह फ़िल्माया गया था। एक गाने के लिए शायद ही कोई इतना घूमा हो। लोकेशन्स इतनी ख़ूबसूरत थीं कि वक़्त कैसे बीत गया, पता ही नहीं चला। अगर यह गाना नहीं होता तो मैं शायद ऐसी जगहों से अनजान रहती। वे लोकेशन्स इतनी प्यारी हैं कि मैं वहां हनीमून मनाना चाहूंगी। 
...शादी कब कर रही हैं?
फिलहाल नहीं। अभी करियर पर ही पूरा ध्यान है मेरा।
सबसे अच्छा कॉम्पलिमेंट कब और किसने दिया है?
हुसैन (मक़बूल फ़िदा हुसैन) साहब ने। उनसे लंदन में मुलाक़ात हुई थी। हुसैन जी ने मुझे देखकर कहा कि तुम्हारी आंखों में मुझे आकाश, तारे और पूरा ब्रह्माण्ड नज़र आ गया।
अपने बारे में ऐसी बात बताएं जो कोई नहीं जानता।
मैं बहुत साधारण इंसान हूं। सादी चीज़ें पसंद हैं। और हां, मैं चॉकलेट्स की दीवानी हूं।
आपकी प्रिय किताबें?
मैं ज्यादा नहीं पढ़ती। पढ़ने से ज़्यादा मुझे संगीत सुनना पसंद है।
किस तरह का संगीत?
किशोर कुमार, मोहम्मद रफी, शान और सोनू निगम को सुनना पसंद है। अंग्रेज़ी गाने भी ख़ूब सुनती हूं।
पसंदीदा फ़िल्में?
दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे और हॉलीवुड की विक्की क्रिस्टीना बार्सिलोना’, जिसके निर्देशक वुडी एलन हैं।
प्रिय शहर?
आगरा।
...और विदेश में?
फ्रेंच रिविएरा, जो फ्रांस के दक्षिण-पूर्व में एक ख़ूबसूरत समुद्री किनारा है।
पसंदीदा परिधान?
मुझे साड़ी पहनना बहुत पसंद है। यह हिन्दुस्तान का पारंपरिक पहनावा है और मेरे ख़याल से दुनिया में इससे अच्छा परिधान नहीं है।
प्रिय राजनेता?
राहुल गांधी, वे युवाओं के प्रतिनिधि हैं।
जीवन का अर्थ?
ख़ुश रहना और ख़ुशियां बांटना। 

('अहा ज़िंदगी' पत्रिका के जनवरी 2012 अंक में प्रकाशित)

21 comments:

  1. साक्षात्कार दिलचस्प रहा ...

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छा लगा पढ़ कर !

    ReplyDelete
  3. साक्षात्कार दिलचस्प और रोचक लगा ...

    ReplyDelete
  4. बढ़िया प्रस्तुति...
    आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 16-01-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    ReplyDelete
  5. दिलचस्प और रोचक साक्षात्कार के लिए आपका धन्यवाद और रश्मि जी का बहुत बहुत आभार जिन के माध्यम से आप के ब्लॉग तक आना हुआ ... अब आना जाना लगा रहेगा ... सादर !

    ReplyDelete
  6. Very Nice Mam........
    keep it up.:)

    ReplyDelete
  7. मजेदार और विस्तृत इंटरव्यू. दीपिका के कई अनछुए पहलु सामने आये. बधाई.

    ReplyDelete
  8. बढिया साक्षात्‍कार।
    प्रस्‍तुति भी अच्‍छी।

    ReplyDelete
  9. दीपिका जी का बढ़िया साक्षात्कार, सुंदर प्रस्तुति मुझे बहुत अच्छा लगा
    आपके पोस्ट पर आना सार्थक लगा
    समर्थक बन रहा हूँ आप भी बने,मुझे हादिक खुशी होगी...आभार
    new post--काव्यान्जलि --हमदर्द-

    ReplyDelete
  10. बढ़िया पोस्ट ...आपको भी यदि समय मिले तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है
    http://mhare-anubhav.blogspot.com/

    ReplyDelete
  11. बहुत ही रोचक साक्षात्कार!

    ReplyDelete
  12. बढ़िया साक्षात्कार दीपिका जी का

    ReplyDelete
  13. बहुत सी नयी बातें पता चलीं आपके आर्टिकल से ............
    बधाई ...
    मेरी नयी कविता तो नहीं उस जैसी पंक्तियाँ "जोश "पढने के लिए मेरे ब्लॉग पे आयें...
    http://dilkikashmakash.blogspot.com/

    ReplyDelete
  14. यह वार्ता काफी रोचक है।

    ReplyDelete
  15. बढ़िया साक्षात्कार...
    मुझे दीपिका शुरू में एकदम पसंद नहीं आयीं थी..
    'ओम शान्ति ओम' तो फिल्म भी ज्यादा खास नहीं लगी थी मुझे,

    जिस फिल्म से मुझे दीपिका पादुकोण पसंद आने लगी वो थी इम्तिआज़ अली की 'लव आज कल'.कुछ चार पांच दफे इस फिल्म को मैंने थियेटर में देखा होगा, और डी.वि.डी पे तो याद भी नहीं कितने दफे देखा है..मुझे दीपिका बहुत पसंद आई थी इस फिल्म में..

    फिर अभी जो देसी बोयज फिल्म आई है वो भी मुझे बहुत पसंद आई...

    बहुत अच्छा लगा ये इन्टर्व्यू!!

    ReplyDelete
  16. Very nice.
    This teach us ku6 bhi karo pehle apna aim fix karo.aapko pta hona chahiye ke apko kya krna he or kya kr rahe ho

    ReplyDelete
  17. Quite informative n absorbing interview..........

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...