Saturday, September 10, 2011

वेरा के लिए

(नाज़िम हिकमत की कविता जो उन्होंने 
वेरा तुल्याकोवा के लिए लिखी. वेरा, 
नाज़िम की पांचवीं और अंतिम पत्नी थीं.) 

आओ!- उसने कहा 
और ठहरो!- उसने कहा 
और मुस्कराओ!- उसने कहा 
और मर जाओ!- उसने कहा। 

मैं आया 
मैं ठहरा 
मैं मुस्कराया 
और मैं मर गया।

5 comments:

  1. http://allpkjobz.blogspot.com provides all Ads for University,college,business and jobs in Pakistan as daily from dawn news Dawn,Jang,Nawaiwaqt,Express Jobs ads in Pakistan with all paper admission,careers and Classified paper and Jang newspaper

    ReplyDelete
  2. बहुत बहुत बधाई ||

    आप जब भी नई पोस्ट लाते हैं |
    नया उत्साह जगाते हैं ||

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर, धन्यवाद|

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...