Thursday, December 2, 2010

रोटी और कविता

मुझे नहीं पता
आटे-दाल का भाव
इन दिनों 

नहीं जानती
ख़त्म हो चुका है घर में 
नमक, मिर्च, तेल और
दूसरा ज़रूरी सामान 

रसोईघर में पैर रख 
राशन नहीं
सोचती हूं सिर्फ़
कविता 

आटा गूंधते-गूंधते
गुंधने लगता है कुछ भीतर
गीला, सूखा, लसलसा-सा 

चूल्हे पर रखते ही तवा 
ऊष्मा से भर उठता है मस्तिष्क 

बेलती हूं रोटियां
नाप-तोल, गोलाई के साथ
विचार भी लेने लगते हैं आकार 

होता है शुरू रोटियों के
सिकने का सिलसिला
शब्द भी सिकते हैं धीरे-धीरे 

देखती हूं यंत्रवत्
रोटियों की उलट-पलट
उनका उफान 

आख़िरी रोटी के फूलने तक
कविता भी हो जाती है
पककर तैयार।

(वागर्थ के अगस्त 2011 अंक में प्रकाशित)

10 comments:

  1. ... bahut sundar ... shaandaar !!!

    ReplyDelete
  2. और देखिये रोती के पकने तक कितनी अच्छी कविता पक के तैयात भी हो गयी है...:)

    ReplyDelete
  3. Kind of makes sense. Rediculously sensible. More of these please !!

    ReplyDelete
  4. And has this name anything to do with the Great name GULERI ... of "Us Na Kahaa Thaa" fame ?

    ReplyDelete
  5. अच्छा प्रयास! आंच संतुलित हो तभी रोटी अच्छी पकती है वरना कच्ची रह जाती है या ऊपर-ऊपर पक जाती है ! कविता के गढ़ने की प्रक्रिया जटिल होती है और रोचक भी ! इस पर मेरी एक कविता जरूर पढियेगा : "कविता का जन्म"
    शुभकामनाओं सहित,
    सुशील

    ReplyDelete
  6. वाह! रोटी के पकने के साथ कविता का पकना …………बेहद उम्दा प्रस्तुति…………ऐसा भी होता है ।

    ReplyDelete
  7. कविता तो निरंतर चलती रहती है...
    सुन्दर!

    ReplyDelete
  8. is poem se pet hi nahi atma ki bhookh bhi mit gai...well done..great work.

    ReplyDelete
  9. मेरी अधपक्की रोटियां शायद सानी है मेरे अधपक्के अंतर्मन का....
    बहुत खूब माधवी

    ReplyDelete
  10. सभी सुधिजनों को दिल से धन्यवाद !!

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...