Sunday, October 19, 2014

चाहता हूं प्रेम

(रूसी कवि और फ़िल्मकार येव्‍गेनी येव्‍तुशेंको की कविताएं पढ़ते हुए 
इस कविता पर आना हुआ. अनुवाद वरयाम सिंह का है. येव्गेनी की 
और कविताएं यहां पढ़ी जा सकती हैं.)
मैं नहीं चाहता हर कोई मुझे प्‍यार करे
इसलिए कि संघर्ष की भावना के साथ-साथ
मुझमें बीज की तरह बैठा है मेरा युग
शायद एक नहीं, बल्कि कई-कई युग

पश्चिम के प्रति मैं सावधान होने का अभिनय नहीं करता
न पूरब की पूजा करता हूं अंधों की तरह
दोनों पक्षों की प्रशंसा पाने के लिए
मैंने स्‍वयं अपने से पूछी नहीं पहेलियां

अपने हृदय पर हाथ रख
संभव नहीं है इस निर्मम संघर्ष में
पक्षधर होना एक साथ
शिकार और शिकारी का

लुच्‍चापन है यह प्रयास करना
कि सभी मुझे पसंद करें
जितनी दूर मैं रखता हूं चाटुकारों को
उतनी ही दूर चाटुकारिता चाहने वालों को

मैं नहीं चाहता भीड़ मुझे प्रेम करे
चाहता हूं प्रेम केवल मित्रों का
चाहता हूं तुम मुझे प्रेम करो
और कभी-कभी मेरा अपना बेटा मुझे प्रेम करे

मैं चाहता हूं पाना उनका प्रेम
जो लड़ते हैं, और लड़ते हैं अंत तक
चाहता हूं मुझे प्रेम करती रहे
मेरे खोये पिता की छाया। 

(चित्र- रोरिक)

10 comments:

  1. आपको दीपावली की सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएँ !

    कल 24/अक्तूबर/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  3. प्रिय दोस्त मझे यह Article बहुत अच्छा लगा। आज बहुत से लोग कई प्रकार के रोगों से ग्रस्त है और वे ज्ञान के अभाव में अपने बहुत सारे धन को बरबाद कर देते हैं। उन लोगों को यदि स्वास्थ्य की जानकारियां ठीक प्रकार से मिल जाए तो वे लोग बरवाद होने से बच जायेंगे तथा स्वास्थ भी रहेंगे। मैं ऐसे लोगों को स्वास्थ्य की जानकारियां फ्री में www.Jkhealthworld.com के माध्यम से प्रदान करती हूं। मैं एक Social Worker हूं और जनकल्याण की भावना से यह कार्य कर रही हूं। आप मेरे इस कार्य में मदद करें ताकि अधिक से अधिक लोगों तक ये जानकारियां आसानी से पहुच सकें और वे अपने इलाज स्वयं कर सकें। यदि आपको मेरा यह सुझाव पसंद आया तो इस लिंक को अपने Blog या Website पर जगह दें। धन्यवाद!
    Health Care in Hindi

    ReplyDelete
  4. सुन्दर शब्द रचना

    http://savanxxx.blogspot.in

    ReplyDelete
  5. Nice article sir. Thanks a lot for sharing with us. I am a reguler visiter of your blog.Online GK Test

    ReplyDelete
  6. I think this is among the most significant information for me.
    And i'm glad reading your article. But wanna remark on few
    general things, The site style is wonderful, the articles is really great : D.
    Good job, cheers

    My webpage - Diabetes Protocol Review End Your Diabetes
    Forever ()

    ReplyDelete
  7. आज के समय में बहुत सारी बीमारियां फैल रही हैं। हम कितना भी साफ-सफाई क्यों न अपना लें फिर भी किसी न किसी प्रकार से बीमार हो ही जाते हैं। ऐसी बीमारियों

    को ठीक करने के लिए हमें उचित स्वास्थ्य ज्ञान होना जरूरी है। इसके लिए मैं आज आपको ऐसी Website के बारे में बताने जा रहा हूं जहां पर आप सभी प्रकार की

    स्वास्थ्य संबंधी जानकारियां प्राप्त कर सकते हैं।
    Read More Click here...
    Health World

    ReplyDelete
  8. आपका blog अच्छा है। मै भी Social Work करती हूं।
    अनार शब्द सुनते ही एक कहावत स्मरण हो आता है-‘एक अनार, सौ बीमार।' चौंकिए मत, अनार बीमारियों का घर नहीं है, बल्कि यह तो हमारे शरीर के लिए काफी फायदेमंद होता है। इससे उपचार और अन्य आयुर्वेदा के टीप्स पढ़ने के लिए यहां पर Click करें और पसंद आये तो इसे जरूर Share करें ताकि अधिक से अधिक लोग इसका फायदा उठा सकें। अनार से उपचार

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...